कांग्रेस में शोक की लहर, इस बड़े नेता का.. जानिये पूरी खबर

2536

सोमवार  दोपहर पूर्व केंद्रीय मंत्री और ऑल इंडिया फुटबॉल फेडरेशन के पूर्व अध्यक्ष प्रियरंजन दासमुंशी का दिल्ली के अपोलो अस्पताल में निधन हो गया. अपने राजनैतिक जीवन में कई अहम पद संभाल चुके प्रियरंजन दासमुंशी पहली बार वर्ष 1971 में दक्षिणी कोलकाता लोकसभा सीट से सांसद चुने गए थे. उन्हें वर्ष 1985 में पहली बार राजीव गांधी मंत्रिमंडल में मंत्रिपद सौंपा गया था.

Image result for कांग्रेस नेता प्रियरंजन दास मुंशी

प्रियरंजन दासमुंशी के परिवार में उनकी पत्नी दीपा दासमुंशी तथा पुत्र प्रियदीप दासमुंशी हैं. दीपा दासमुंशी से उनका विवाह वर्ष 1994 में हुआ था, और इस समय दीपा पश्चिम बंगाल की रायगंज सीट से लोकसभा सांसद हैं. प्रियरंजन दासमुंशी अंतिम बार वर्ष 2004 में रायगंज सीट से ही लोकसभा चुनाव लड़े थे, और जीते थे.

Image result for कांग्रेस नेता प्रियरंजन दास मुंशी

अक्टूबर, 2008 में उन्हें दिल का दौरा पड़ा था, और उसके बाद से वह किसी को भी नहीं पहचान पा रहे थे, और बोल भी नहीं पा रहे थे. उन्हें दिल्ली के ऑल इंडिया इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज़ में भर्ती कराया गया था, जहां से बाद में उन्हें अपोलो अस्पताल में ले जाया गया था.

Image result for कांग्रेस नेता प्रियरंजन दास मुंशी

राजनीतिक सफर :-

13 नवंबर, 1945 को जन्मे प्रिय रंजन दासमुंशी 25 साल की उम्र में 1970 में पश्चिम बंगाल यूथ कांग्रेस के अध्यक्ष बन गए थे. अगले साल 1971 में वे साउथ कलकत्ता सीट जीत कर संसद में पहुंच गए. इसके बाद उन्‍होंने साल 1984 में हावड़ा लोकसभा सीट जीती. 1985 में वे पहली बार केंद्र में मंत्री बने. दासमुंशी को चुनावों में हार का समाना भी करना पड़ा.

Related image

उन्‍हें दो बार 1989 और 1991 में हावड़ा सीट गंवानी पड़ी. लेकिन फिर वो लगातार दो बार 1999 और 2004 में रायगंज सीट पर कब्‍जा कर लोकसभा पहुंच गए. दासमुंशी की खेलों में भी खासी दिलचस्पी रही है. वे करीब 20 साल तक ऑल इंडिया फुटबॉल फेडरेशन के अध्यक्ष भी रहे.

Related image

 

विवादित फैसले :-

2004 में मनमोहन सिंह की सरकार में दासमुंशी न सिर्फ सूचना प्रसारण मंत्री थे बल्कि संसदीय कार्य मंत्री भी रहे.  सूचना प्रसारण मंत्री के तौर पर वे काफी चर्चा में रहते थे. कभी उन्‍होंने AXN और फैशन टीवी पर प्रतिबंध लगाया तो कभी खेलों के प्रसारण का अध‍िकार दूरदर्शन को दिला दिया. यही नहीं वह मीडिया पर भी नियंत्रण करना चाहते थे और इस संबंध में कानून लाने की तैयारी में थे, लेकिन फिर वो बीमार हो गए. अपने इन फैसलों की वजह से उन्‍हें काफी आलोचनाओं का भी सामना करना पड़ा था.

Image result for कांग्रेस नेता प्रियरंजन दास मुंशी

निजी जिंदगी :-

प्रियरंजन दासमुंशी ने लंबी दोस्‍ती के बाद कोलकाता की समाज सेविका दीपा दासमुंशी के साथ साल 1994 में ब्‍याह रचाया था. दोनों का एक बेटा प्रियदीप दासमुंशी है. एक बार बीबीसी को दिए इंटरव्‍यू में उन्‍होंने कहा था, ‘दोस्त तो मेरे कितने ही हैं लेकिन सबसे बड़ी दोस्त हैं मेरी बीवी. एक लंबी दोस्ती के बाद मेरे साथ उनकी शादी हुई. लेकिन दोस्त तो और भी बहुत हैं. दोस्ती के मामले में मैं पार्टी का विचार नहीं करता हूं.’


Warning: A non-numeric value encountered in /home/khabarna/public_html/suchkhu.com/wp-content/themes/Newspaper/includes/wp_booster/td_block.php on line 352