जानिये इंदिरा गाँधी (Iron Lady) का वो फैसला, जिसने पाकिस्तान का इतिहास ही नहीं नक्शा भी बदल दिया

1908

इंदिरा को सत्ता विरासत में मिली थी, लेकिन वो हालात बहुत मुश्किल थे। इंदिरा विपक्ष के निशाने पर थीं, यहां तक की उन्हे गूंगी गुड़िया तक कह दिया गया। लेकिन इंदिरा ने अपने विरोधियों को दिन में ही तारे दिखा दिए। गूंगी गुड़िया कहने वालों की बोलती बंद कर दी।

Image result for indira gandhi

इंदिरा आज से ठीक 100 साल पहले 19 नवंबर 1917 को इलाहाबाद में पैदा हुईं थीं। पढ़िए इस मौके पर इंदिरा की जिंदगी से जुड़ी यह खास पेशकश…

Image result for indira gandhi

मोरारजी देसाई ने की पार्टी से बगावत :-

इंदिरा गांधी प्रधानमंत्री तो बन गईं, लेकिन पार्टी में बगावत हो गई। मोरारजी देसाई पार्टी के फैसले से नाराज हो गए। हालांकि मोरारजी देसाई और इंदिरा के आंकड़े हमेशा छत्तीस के रहे, फिर भी इंदिरा ने मोरारजी देसाई को उपप्रधानमंत्री बनाया था।

Image result for indira gandhi

प्रधानमंत्री बनने के बाद इंदिरा बहुत सहज नहीं थीं। भाषण और संसद में बहसबाजी से बचना चाहती थीं। कम बोलती थीं। 1969 में उनको बजट पेश करना था, तब इंदिरा इतनी डरी थीं कि उनके मुंह से आवाज ही नहीं निकल रही थी। इंदिरा गांधी के निजी चिकित्सक रहे डॉ केपी माथुर ने अपनी किताब ‘द अनसीन इंदिरा गांधी’ में काफी कुछ लिखा है।

Image result for indira gandhi

प्रधानमंत्री बनने के बाद एक या दो साल तक इंदिरा बहुत तनाव में रहीं। वो उन कार्यक्रमों में असहज महसूस करतीं और उनसे बचने का प्रयास करतीं जहां उन्हें बोलना होता था। इस नर्वसनेस की वजह से उनका पेट गड़बड़ हो जाता था या उनके सिर में दर्द होने लगता था। इंदिरा की इस असहजता पर विपक्ष हमेशा हमलावर रहा। राम मनोहर लोहिया ने तो इंदिरा को ‘गूंगी गुड़िया’ तक कह दिया था।

इंदिरा गांधी के क्रांतिकारी फैसले :-

इंदिरा गांधी दो-दो मोर्चों पर लड़ रही थीं, विपक्ष के तीखे तेवरों से तो वो निपट भी लेतीं, लेकिन पार्टी के भीतर की बगावत ने उनकी नाक में दम कर रखा था। इस बीच इंदिरा ने कई क्रांतिकारी फैसले भी लिए….

Image result for indira gandhi

  1. 19 जुलाई 1969 को इंदिरा ने 14 बड़े बैंको का राष्ट्रीकरण कर दिया। जो बैंकिंग सेवाएं बड़े व्यापारियों और किसानों तक ही सीमित थीं अब वो देश की आम जनता और आम किसानों तक पहुंचने लगीं।
  2. इंदिरा ने भूमिहीन और समाज के कमजोर वर्ग के लिए भूमि सुधार नीति बनाई।
  3. इंदिरा ने हरित क्रांति को बढ़ावा दिया। नतीजा ये हुआ कि पहले जहां भारत को अमेरिका से खाद्यान्न आयात करना पड़ता था, भारत खाद्यान्न निर्यात करने लगा।
  4. पार्टी में आए दिन किचकिच को देखते हुए इंदिरा ने अलग रास्ता ले लिया। कांग्रेस का विभाजन हो गया। मोरारजी देसाई ने कांग्रेस ओ बना लिया। इंदिरा ने कांग्रेस आर बनाई, जिसे बाद में कांग्रेस आई नाम दिया गया।
  5. 1971 के लोकसभा चुनावों में इंदिरा ने गरीबी हटाओ का नारा दिया।
  6. प्रचार के दौरान उन्होंने 36,000 मील की दूरी तय की और 300 सभाओं को संबोधित किया।
  7. इंदिरा की आंधी चली, कांग्रेस आई ने 352 लोकसभा सीटें जीतकर प्रचंड बहुमत वाली सरकार बनाई।
  8. मोरारजी देसाई की कांग्रेस ओ को महज 16 सीटों पर संतोष करना पड़ा।

                                                                                        हमसे से जुड़ने के लिए पेज को लाइक करें 

पाकिस्तान की सबसे बड़ी गलती :-

ये वो दौर था, जब पूर्वी पाकिस्तान में पाकिस्तान की सेना ने आम लोगों की जिंदगी जहन्नुम बना दी थी। पाकिस्तान के सैनिक तानाशाह याहया खान ने 25 मार्च 1971 को पूर्वी पाकिस्तान की जनभावनाओं को सैनिक ताकत से कुचलने का आदेश दे दिया था। इसके बाद शेख मुजीद गिरफ्तार कर लिए गए। पूर्वी पाकिस्तान से शरणार्थी भारत आने लगे. पाकिस्तान की नापाक हरकतें बढ़ती जा रही थीं।

Image result for indira gandhi

3 दिसंबर 1971 को इंदिरा कोलकाता में एक जनसभा कर रहीं थी। उसी दिन शाम को पाकिस्तानी वायु सेना के विमानों ने भारतीय वायु सीमा पार कर पठानकोट, श्रीनगर, अमृतसर, जोधपुर और आगरा के सैनिक हवाई अड्डों पर बमबारी कर दी। इंदिरा ने ठान लिया कि पाकिस्तान को सबक सिखाना है।

Image result for indira gandhi

बदल दिया  पाकिस्तान का नक्शा  :-

भारतीय सेना ने पाकिस्तान को करारा जवाब दिया। 13 दिन में लड़ाई खत्म हो गई। 16 दिसंबर को हमारी सेना ने पाकिस्तान के 93 हजार सैनिकों को बंदी बना लिया। इंदिरा ने पाकिस्तान का इतिहास ही नहीं, भूगोल भी बदल दिया। पूर्वी पाकिस्तान आजाद हो गया। इंदिरा की पहल पर बांग्लादेश नाम से नया देश बना। जिसके राष्ट्रपति बने शेख मुजिबिल रहमान। उस वक्त अटल बिहारी वाजपेयी ने इंदिरा को दुर्गा का अवतार तक कहा था।

Image result for indira gandhi

जब पूरी दुनिया को दिखाई भारत की ताकत :-

इंदिरा भारत को एक नई महाशक्ति बनाने में जुटी हुई थीं। 18 मई 1974 को इंदिरा ने पोखरण में परमाणु परीक्षण करवाकर पूरी दुनिया को अपनी ताकत की धमक दिखाई। जिस इंदिरा को ‘गूंगी गुड़िया’ का खिताब मिला था, वो अब ‘द आयरन लेडी’ बन गई थीं।

   हमसे से जुड़ने के लिए पेज को लाइक करें 


Warning: A non-numeric value encountered in /home/khabarna/public_html/suchkhu.com/wp-content/themes/Newspaper/includes/wp_booster/td_block.php on line 352