ब्रेकिंग न्यूज़ :- बीजेपी के खिलाफ गुजरात चुनाव में राहुल गाँधी की रणनीति ‘युवा तिकड़ी’ गठजोड़ को लगा बड़ा झटका, जानिये पूरी खबर

1820

दिसंबर में होने जा रहे गुजरात चुनाव से ऐन पहले कांग्रेस में शामिल होने की अटकलों को विराम देते हुए राष्ट्रीय दलित अधिकार मंच के संयोजक जिग्नेश मेवानी ने घोषणा करते हुए कहा कि 2017 के विधानसभा चुनावों में वह किसी भी दल में शामिल नहीं होंगे। दरअसल इससे पहले गुजरात कांग्रेस प्रभारी अशोक गहलोत से मुलाकात के बाद जिग्नेश मेवानी की कांग्रेस में शामिल होने की अटकलें लगाई जा रही थीं।

Image result for युवा तिकड़ी’

ओबीसी नेता अल्पेश ठाकुर के कांग्रेस ज्वानइन करने और हार्दिक पटेल के कांग्रेस से बातचीत के बीच कहा जा रहा था कि जिग्नेश भी कांग्रेस में शामिल हो सकते हैं। अब जिग्नेश की घोषणा से स्पतष्टह हो गया है कि वह कांग्रेस या किसी भी अन्यम दल में शामिल नहीं होंगे. जिग्नेश मेवानी पेशे से वकील हैं।

Image result for गुजरात में कांग्रेस रणनीति ‘युवा तिकड़ी’ गठजोड़

गुजरात चुनाव में कांग्रेस की रणनीति को झटका लगा है। कांग्रेस ने पाटीदार नेता हार्दिक पटेल, ओबीसी नेता अल्पेश ठाकोर और दलित नेता जिग्नेश मेवानी को कांग्रेस के साथ आने का न्यौता दिया था। जिग्नेश के इस ऐलान के बाद गुजरात चुनाव में युवाओं की तिकड़ी बनाने की सोच रही कांग्रेस को झटका लगा है। लेकिन अल्पेश ठाकौर को छोड़कर किसी ने कांग्रेस नहीं ज्वॉइन की है।

Image result for युवा तिकड़ी’

पाटीदार नेता हार्दिक पटेल ने कांग्रेस के सामने आरक्षण को लेकर शर्त रख दी है। उनकी कई मांगे हैं, जिन पर कांग्रेस ने अपनी सहमति दी है, लेकिन आरक्षण के मुद्दे पर अभी बात नहीं बन पाई है। हार्दिक पटेल ने कांग्रेस को 7 नवंबर तक का समय दिया है। यानी हार्दिक के भी कांग्रेस के साथ जाने को लेकर स्थिति स्पष्ट नहीं है।

Image result for युवा तिकड़ी’

इस बीच जिग्नेश के ऐलान के बाद बीजेपी के खिलाफ कांग्रेस के साथ युवा तिकड़ी के गठजोड़ का सपना टूट गया है।. बता दें कि कुछ दिन पहले ही जिग्नेश मेवानी ने कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी से मुलाकात की थी, लेकिन लगता है कि बात नहीं बन पाई है। पिछले साल उना में दलितों के खिलाफ हुई घटनाओं के बाद इन्‍होंने अपनी आवाज बुलंद की थी। उसके बाद जिग्‍नेस पहली बार राष्‍ट्रीय सुर्खियों में आए।

Image result for युवा तिकड़ी’

पिछले साल गुजरात के उना में गोरक्षा के नाम पर ऊंची जाति के लड़कों द्वारा दलितों की पिटाई का वीडियो वायरल होने के बाद उपजे दलित आंदोलन की आवाज बनकर उभरे। पेशे से वकील और सामाजिक कार्यकर्ता हैं। उना दलित अत्‍याचार लडात समिति के संयोजक हैं। इस समिति ने गुजरात के विभिन्‍न इलाकों में दलितों के विरोध-प्रदर्शन का नेतृत्‍व किया है। उना की घटना के बाद पीडि़तों के लिए न्‍याय की मांग करते हुए 20 हजार लोगों की रैली का आयोजन किया था।


Warning: A non-numeric value encountered in /home/khabarna/public_html/suchkhu.com/wp-content/themes/Newspaper/includes/wp_booster/td_block.php on line 352