ब्लड शुगर कम होने के इन 6 संकेतों को भूलकर भी न करें नजरअंदाज

2072

ब्लड शुगर कम होने का खतरा सिर्फ डायबिटीज के मरीजों को नहीं बल्कि स्वस्थ व्यक्ति को भी होता है। शुगर या ग्लूकोज हमारे शरीर में एनर्जी का मुख्य स्रोत है। ये शुगर ब्लड के सहारे हमारे शरीर के अंगों तक पहुंचता है यानी ब्लड शुगर हमारे शरीर की बुनियादी जरूरत हैं। शरीर में ब्लड शुगर की मात्रा बढ़ जाना भी खतरनाक है और इसका कम होना भी खतरनाक है। ब्लड शुगर के कम होने की स्थिति को हाइपोग्लाइसेमिया कहते हैं।

लो ब्लड शुगर की वजह से किडनी डिसआर्डर, हेपाटाइटिस, लिवर डिजीज, पेनक्रियाटिक ट्यूमर, एड्रेनल ग्लैंड डिसआर्डर, मानसिक संतुलन खोना, बेचैनी, चक्कर आने जैसी कई समस्याएं हो सकती हैं। कई बार तो ये व्यक्ति के लिए जानलेवा भी साबित हो सकता है। ब्लड शुगर कम होने की समस्या आज के समय में एक आम बात हो गई हैं।

लेकिन जरूरी नहीं हैं कि ब्लड शुगर का कम होना केवल डायबिटीज के मरीजों के साथ ही हो सकता हैं, बल्कि यह समस्या एक स्वस्थ व्यक्ति के साथ भी हो सकती हैं। लो ब्लड शुगर की वजह से कई स्वास्थ्य परेशानियाँ हो सकती हैं, यहाँ तक कि जान भी जा सकती हैं। इसलिए यह जरूरी हो जाता है कि लो ब्लड शुगर के संकेतों को जानकर, इसका सही समय पर उपचार किया जाए। तो आइये जानते हैं शरीर में ब्लड शुगर कम होने के संकेतों के बारे में।

एक दिन में कितना शुगर खाना चाहिए?

अमेरिकन डायबिटीज एसोसिएशन के अनुसार :-

स्वस्थ पुरुष को एक दिन में 37.5 ग्राम या 9 चम्मच से ज्यादा शुगर नहीं खाना चाहिए।
स्वस्थ महिला को एक दिन में 25 ग्राम या 6 चम्मच से ज्यादा शुगर नहीं खाना चाहिए।
लेकिन यहां यह ध्यान देना जरूरी है कि शुगर का स्रोत चीनी के अलावा भी ढेर सारे पदार्थ हैं, जिन्हें आप रोज खाते हैं। सभी बेकरी प्रोडक्ड, ड्रिंक्स और प्रॉसेस्ड फूड्स में ढेर सारा शुगर छिपा होता है।

लो ब्लड शुगर के संकेत :-

तेज भूख लगना :-
अगर खाना खाने के बाद भी आपको ऐसा लगता है कि आपका पेट खाली है या आपको अचानक तेज भूख लग जाए, तो ये इस बात का संकेत हो सकता है कि आपके शरीर को और ज्यादा ग्लूकोज की जरूरत है।

नींद न आना :-
आपकी खराब नींद का कारण हाइपोग्लाइसेमिया भी हो सकता है। अगर आपको रात में पसीना आता है, सपने आते हैं या बेचैनी होती है, तो ये लो ब्लड शुगर के संकेत हो सकते हैं।

शरीर में झटके लगना :-
अगर शरीर में ग्लूकोज का लेवल बहुत कम हो जाए, तो शरीर के सेंट्रल नर्वस सिस्टम में परेशानी आने लगती है। शरीर में ग्लूकोज की कमी को पूरा करने के लिए आपका शरीर कैटेकोलामाइन्स रिलीज करने लगता है, जिसके कारण कई बार आपको अचानक शरीर में झटका या झनझनाहट महसूस हो सकती है।

अचानक मूड बदल जाना :-
अचानक मूड बदल जाना यानी मूड स्विंग भी शरीर में लो शुगर लेवल का संकेत हो सकता है। अगर आपको लगता है कि आपके व्यवहार में अचानक परिवर्तन आ गया है या बेचैनी महसूस होने लगी है, तो ये ग्लूकोज की कमी का संकेत हो सकता है।

पसीना आना :-
हमारे शरीर में पसीने को ऑटोनॉमिक नर्वस सिस्टम कंट्रोल करता है। ये सेंट्रल नर्वस सिस्टम का ही हिस्सा होता है। अगर आपको बिना किसी कारण पसीना आने लगे, तो ये इस बात का संकेत हो सकता है कि आपके शरीर में ग्लूकोज की कमी हो गई है।

चक्कर आना और आंखों के आगे अंधेरा छाना :-
ये शरीर में ग्लूकोज की कमी का सबसे पहला और सामान्य संकेत है। कई बार जब आप देर तक भूखे होते हैं और शरीर में ग्लूकोज का लेवल बहुत कम हो जाता है, तो आपको चक्कर आने या आंखों के आगे कुछ पल के लिए अंधेरा छा जाने के लक्षण दिखते हैं।