मूली के सेहत से जुड़े हैं कई बेहतरीन फायदे

1083

सर्दियों में मूली के पराठे, मूली की सब्‍जी, मूली का अचार और सलाद हर घर के भोजन का अहम हिस्‍सा हैं। हालांकि ज्‍यादातर लोग ऐसे हैं जो मूली की शक्‍ल देखकर ही मुंह बनाने लगते हैं। अगर आप भी ऐसे ही लोगों में शामिल हैं तो आपके लिए मूली के फायदों को जानना बेहद जरूरी है। जी हां, मूली भले ही आपको मामूली सब्‍जी, लेकिन यह औषधिय गुणों से भरपूर है।

अगर आप रोजाना इसे अपनी डाइट में शामिल करेंगे तो कैंसर, डायबिटीज, ब्‍लड प्रेशर समेत कई बीमारियों से कोसों दूर रहेंगे और आपकी लाइफस्‍टाइल हो जाएगी बेहद हेल्‍दी। मूली में प्रोटीन, कैल्शियम, आयोडीन तथा आयरन तत्व पर्याप्त मात्रा में होते हैं। साथ ही इसमें सोडियम, फॉस्फोरस, क्लोरीन मैग्नीशियम और विटामिन ‘ए’ भी होता है।

मूली के स्वास्थ्य लाभ :-

मूली में प्रोटीन, कैल्शियम, आयोडीन तथा आयरन तत्व पर्याप्त मात्रा में होते हैं। साथ ही इसमें सोडियम, फॉस्फोरस, क्लोरीन मैग्नीशियम और विटामिन ‘ए’ भी होता है। हमें विटामिन ‘बी’ और ‘सी’ भी इससे मिलता हैं। ताजा मूली खाने से पाचनशक्ति बढ़ती है। पेट और मूत्र विकार ठीक होते हैं। इसके अलावा यह अन्‍य कई लाभ भी पहुंचाती है। आइए हम आपको बताते हैं कि मूली हमारे स्‍वास्‍थ्‍य के लिए कितनी फायदेमंद है।

डायबिटीज से छुटकारा :-

मूली कम ग्‍लाइसेमिक इंडेक्‍स के लिए जानी जाती है। यानी कि इसे खाने से ब्‍लड शुगर पर असर नहीं होता है। रोजाना सुबह खाने में मूली का सेवन करने से डायबिटीज से जल्द छुटकारा मिल सकता है।

पेट का भारीपन दूर करें :-

पेट के लिए मूली बहुत फायदेमंद होती है। मूली एक पाचक की तरह काम करती है। पेट की कई बीमारियों में मूली का रस बहुत फायदेमंद होता है। अगर पेट में भारीपन महसूस हो रहा हो तो मूली के रस को नमक में मिलाकर पीने से आराम मिलता है।

सर्दी-जुकाम में राहत :-

मूली खाने से जुकाम भी नही होता है। कुछ नहीं तो मूली को कम से कम सलाद में तो जरूर खाना चाहिए।

शरीर सुडौल बनाएं :-

मोटापा अनेक बीमारियां की जड़ है। अगर आप भी मोटापे से परेशान हैं तो आपके लिए मूली बहुत लाभदायक साबित हो सकती है। इसके रस में थोड़ा-सा नमक और नीबू का रस मिलाकर नियमित रूप से पीने से मोटापा कम होता है और शरीर सुडौल बन जाता है।

यूरीन संबंधित रोगों के लिए :-

यूरीन पास करने में दिक्कत होने पर मूली के रस का सेवन कीजिए। साथ ही यूरीन से जुड़ी अन्‍य समस्‍याएं जैसे यूरीन आना बंद होना, जलन या रूक-रूक कर आना  हो तो मूली का रस बहुत फायदेमंद होता है।

दूर भगाए बीमारियां :-

बवासीर में कच्ची मूली या मूली के पत्तों की सब्जी बनाकर खाना फायदेमंद होता है। हर रोज सुबह उठते ही एक कच्ची मूली खाने से पीलीया रोग में आराम मिलता है। अगर पेशाब का बनना बंद हो जाए तो मूली का रस पीने से पेशाब दोबारा बनने लगती है। आधा गिलास मूली का रस पीने से पेशाब के साथ होने वाली जलन और दर्द मिट जाता है। खट्टी डकारें आती है तो मूली के एक कप रस में मिश्री मिलाकर पीने से लाभ मिलता है।

सौन्दर्यवर्धक :-

मूली सौन्दर्यवर्धक भी होती है। इसका नियमित रूप से सेवन करने से रक्त शुद्ध होता है। जिससे रंग निखरता है, खुश्की दूर होती है और चेहरे की झाइयां, कील-मुहांसे आदि साफ हो जाते हैं।

हड्डियों को मजबूत करें :-

मूली शरीर से विषैली गैस कार्बन-डाईआक्साइड को निकालकर जीवनदायी आक्सीजन प्रदान करती है। साथ ही मूली में पाया जाने वाला कैल्शियम दांतों तथा हडि्डयों को मजबूत करता है।

मिटेगी थकान, दूर होगा मोटापा :-

थकान मिटाने और नींद लाने में मूली बेहद फायदेमंद है। वहीं, अगर आपको मोटापे से छुटकारा पाना है तो मूली के रस में नींबू और नमक मिलाकर खाने से बहुत लाभ मिलता है। दरअसल, मूली खाने से आपकी भूख शांत होती है।

अस्‍थमा में उपयोगी :-

मूली की तासीर ठण्डी मानी जाती है। इसलिए कहा जाता है कि मूली खांसी बढ़ाती है। लेकिन यह धारणा गलत है। अस्‍थमा और खांसी के मरीजों को मूली का सेवन करना चाहिए। सूखी मूली का काढ़ा बनाकर जीरे और काला नमक के साथ सेवन करने से न केवल खांसी बल्कि अस्‍थमा में भी लाभ होता है।

रक्ताल्पता में लाभकारी :-

जिन लोगों में खून की कमी होती है उनके लिए मूली का नियमित सेवन लाभकारी होता हैं। मूली के रस में समान मात्रा में अनार का रस मिलाकर पीने से रक्त में हीमोग्लोबिन बढ़ता है और रक्ताल्पता दूर होता है।

कैंसर से बचाव :-

मूली में भरपूर मात्रा में उपलब्‍ध फॉलिक एसिड, विटामिन सी और एंथोकाइनिन शरीर को कैंसर से लड़ने में मदद करते हैं। शोध से यह साबित हुआ है कि ये तत्‍व मुंह, पेट, आंत और किडनी के कैंसर से लड़ने में बहुत सहायक होते है।

दांतों और मसूड़ों के लिए :-

मूली के रस से कुल्ला करना, मसूड़ों-दांतों पर मलना और पीना दांतों के लिये बहुत लाभकारी है। मूली को चबा-चबा कर खाना दांतों व मसूड़ों को निरोग करता है। साथ ही यह दांतों का पीलापन भी दूर करता है। मूली के टुकड़े पर नींबू का रस लगाकर दांतों पर लगाने से दांतों पर चढ़ी पीली परत हट जाती है।

लीवर में मजबूती :-

मूली खाने से लिवर मजबूत होता है। लीवर की परेशानी होने पर नियमित रूप से अपने भोजन में मूली का सेवन करना चाहिए। साथ ही पीलिया रोग में भी ताजा मूली का प्रयोग बहुत ही उपयोगी होता है। नियमित रूप से एक कच्‍ची मूली सुबह खाने से कुछ ही दिनों में पीलिया रोग ठीक हो जाता है।

मुंहासों से मुक्ति :-

मूली में विटामिन C, जिंक, B कांप्‍लेक्‍स और फॉस्‍फोरस होता है। मुंहासों के लिए मूली का टुकड़ा गोल काट कर मुंहासों पर लगाएं और तब तक लगाए रखें जब तक यह खुश्क न हो जाए। थोड़ी देर बाद चेहरे को ठंडे पानी से धो लें। कुछ ही दिनों में चेहरा साफ हो जाएगा।

अगर आपको ये पोस्ट अच्छी लगी तो जन-जागरण के लिए इसे अपने Facebook पर शेयर करें

ऐसी ही और बातों के लिए like करें हमारे पेज Such Khu को।

और ऐसे ही अन्य स्वास्थ्य सम्बन्धी जानकारी के लिए निचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें और गुरूप ज्वाइन करें।

जुडें हमारे फेसबुक ग्रुप से क्लिक करें आयुर्वेदिक देशी नुस्खे।