जानिए क्यों सिर्फ पुरुष ही होते हैं गंजेपन का शिकार और इसके पीछे कौनसे हार्मोंस हैं जिम्मेदार

284

आजकल लोगों में गंजापन तेजी से बढ़ रहा है। इसका कारण है लोगों का गलत खान-पान और जीवनशैली। देखने में आता है कि छोटी उम्र के बच्चों में भी बाल झड़ने की समस्या होने लगी है। लेकिन क्या आपने एक बात पर ध्यान दिया कि गंजेपन का शिकार आमतौर पर सिर्फ पुरुष ही होते हैं?

महिलाओं में गंजापन बहुत दुर्लभ है या किसी बीमारी के कारण होने वाला गंजापन है। जबकि पुरुषों की उम्र 40 पार होते-होते आधे से ज्यादा पुरुष गंजे हो जाते हैं। आइए आपको बताते हैं ऐसा क्यों होता है कि सिर्फ पुरुष ही गंजेपन के शिकार होते हैं।

टेस्टोस्टेरॉन एक तरह का हार्मोन है, जो पुरुषों और महिलाओं दोनों में पाया जाता है मगर पुरुषों में इसकी मात्रा बहुत ज्यादा पाई जाती है। पुरुषों के पुरुषत्व वाले शारीरिक बदलावों के लिए यही हार्मोन जिम्मेदार होता है। टेस्टोस्टेरॉन पुरुषों में स्रावित होने वाले एंड्रोजन समूह का स्टेरॉयड हार्मोन है, जिसके कारण पुरुषों में बाल झड़ने की समस्या पैदा होती है। दरअसल इंसान के शरीर में कुछ एंजाइम ऐसे होते हैं जो टेस्टोस्टेरॉन को डिहाइड्रो-टेस्टोस्टेरॉन में बदल देते हैं।

यही डिहाइड्रो-टेस्टोस्टेरॉन के कारण बाल पतले और कमजोर हो जाते हैं। सामान्यतौर पर हार्मोंस में यह बदलाव करने वाले एंजाइम एक इंसान में उसे उसके जींस से प्राप्त हुए होते हैं। इसी कारण गंजेपन को आनुवांशिक भी माना जाता है।

कुछ अन्य कारण भी हो सकते हैं गंजेपन के आइये जानते हैं और जरूरी भी है इनसे सावधान होना …

तनाव लेना

हमारा मस्तिस्क कुछ ऐसे हार्मोन का स्त्राव करता है जो हमारे बालों की ग्रोथ में अपना बहुत बड़ा योगदान निभाते हैं। तनाव की वजह से उन हार्मोन का स्त्राव पर बहुत गहरा प्रभाव पड़ता है और उनका स्त्राव होना काफी हद तक बंद हो जाता है। इस वजह से आपके बाल झड़ने लगते हैं।

इसलिए आप हमेशा खुश रहें और तनाव से दूरी बनाए रहें।

दवाइयों का साइड इफेक्ट

दवाईयाँ शरीर में कई तरह के हार्मोनल प्रोडक्शन को प्रभावित करते हैं। हार्मोनल प्रोडक्शन के प्रभावित होने की वजह से बालों के लम्बाई में इफ़ेक्ट पड़ता है। इससे बाल बेजान होजाते हैं, उनमे रूसी पनपने लगती है। रूसी हो जाने की वजह से बाल कमजोर हो जाते हैं। कमजोर बाल झड़ना शुरू हो जाते हैं और गंजेपन की शुरुआत हो जाती है।

धूम्रपान करना

देखा जाए तो धूम्रपान करने से हमें कई बीमारियों का सामना करना पड़ता है। जिनमें कैंसर जैसी खतरनाक बीमारियां भी शामिल है। लेकिन अगर आप धूम्रपान करेंगे तो आपके बाल भी झड़ने लगते हैं और आपको गंजेपन की समस्या से लड़ना पड़ता है। धूम्रपान करना आपके बाल के सेहत को डैमेज कर देता है। फरासल धूम्रपान करने से रक्त कोशिकाएं प्रभावित होती हैं और इनकी वजह से अक्सर बालों की झड़ने की समस्या हो जाती है।

केमिकल वाले पदार्थों से बाल को धोना

पुरुष अलग-अलग वैरायटी के शैंपू और कंडीशनर का इस्तेमाल करते हैं। जिससे उनके बाल कम उम्र में ही झड़ने लगते हैंऔर गंजेपन की समस्या आ जाती है। दरअसल केमिकल प्रोडक्टका इस्तेमाल करने सेहमारे बालों में बुरा असर पड़ता है और हमारे बाल कमजोर पड़कर झड़ने रखते हैं।

केमिकल प्रोडक्ट का रिएक्शन कुछ इस कदर होता है की वे बालों की मोटाई को पतला कर देते हैं। बाल पतला हो जाने के वजह से कमजोर हो जाते हैं और झड़ने लगते हैं।

बाल गंदे रहना

पुरुष अक्सरबालों पर ज्यादा ध्यान नहीं देते औरइससे बाल गंदे रहते हैं और बाल गंदे रहने से हमारे बाल कमजोर पड़ जाते हैं जिससे गंजेपन की समस्या शुरू हो जाती है। इसलिए अगर आप गंजेपन की समस्या से दूर रहना चाहते हैं तो बालों को गंदा ना रखें और बालों को साफ बनाए रहें।

सिर में रुसी होना

सिर में रुसी होना गंभीर समस्या है लेकिन यह समस्याइतनी गम्भीर है कि इससे हमारे बाल झड़ने लगते हैं। और गंजेपन की समस्याका सामना करना पड़ता है। जिन पुरुषों के बाल में रूसी रहती है उनके बाल कमजोर पड़कर झड़ने लगते हैं जिससे गंजेपन की समस्या उत्पन्न होती है।

अगर आपको ये पोस्ट अच्छी लगी तो जन-जागरण के लिए इसे अपने Facebook पर शेयर करें

ऐसी ही और बातों के लिए like करें हमारे पेज Such Khu को।

और ऐसे ही अन्य स्वास्थ्य सम्बन्धी जानकारी के लिए निचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें और गुरूप ज्वाइन करें।

जुडें हमारे फेसबुक ग्रुप से क्लिक करें आयुर्वेदिक देशी नुस्खे।