जानिये सर्दियों में कौन सा भोजन रखेगा रोगों से दूर और देगा भरपूर शक्ति

192

हममें से बहुत से लोग ठंड के मौसम का मज़ा लेते हैं। भीषण गर्मी और बरसात के बाद सर्दियाँ ढेर सारी ख़ुशियाँ लेकर आती हैं। अन्य मौसमों के तुलना में सर्दी का मौसम हेल्दी सीज़न माना जाता है, लेकिन हमारी ज़रा सी भी असावधानी हमें बीमार कर सकती है। क्योकि हर मौसम को झेलने के लिए हमारे शरीर को अलग शक्ति चाहियें होती है। ऐसा ही होता है सर्दियों के मौसम में जहाँ अनेक बीमारियाँ हमे अपना शिकार बनाने के लिए हमेशा तैयार रहती है। चाहे आप बच्चे हो या फिर बड़े, आपको कोई ना कोई बिमारी अवश्य घेर ही लेती है।

इस तरह की स्थिति में भोजन का महत्व बढ़ जाता है क्योकि भोजन से ही हमे रोगों से लड़ने की शक्ति मिलती है। आज हम अपनी इस पोस्ट में आपको बताने जा रहे है कि आपको सर्दियों के मौसम में किस भोजन का सेवन करना चाहियें ताकि आपका शरीर स्वस्थ और रोगमुक्त रह सके और आप ठण्ड के मौसम का पूर्ण मजा ले सके।

सर्दी का मौसम सेहत के लिहाज से बेहतरीन मौसम माना जाता है । इस समय पाचन शक्ति अच्छी रहती है, भूख भी अच्छी लगती है,खाया  पीया अच्छे से हजम हो जाता है, रातें लम्बी होती हैं, जिससे आराम करने को भी पर्याप्त समय मिल जाता है, जिस प्रकार एक व्यापारी व्यापार के सीजन में खूब मेहनत करके पर्याप्त धन अर्जित कर लेता है और फिर वर्ष के शेष समय में कम आय  होने के बावजूद आराम से जीवनयापन कर पाता है, उसी प्रकार हमें शीत ऋतु में पौष्टिक  आहार एवं व्यायाम,योगा आदि के द्वारा पर्याप्त बल एवं शक्ति अर्जित कर लेनी चाहिए, ताकि वर्ष पर्यन्त स्वस्थ रह  सकें ।

तो आइए आज हम आपको सर्दियों के मौसम में हेल्दी रहने के टिप्स बताते हैं।

सर्दियों में स्वस्थ रहने के लिए भोजन :-

पिंड खजूर :- सर्दियों में पिंड खजूर का नाम हर व्यक्ति शत प्रतिशत सुनता है क्योकि सर्दियों में पिंड खजूर का सेवन सर्वाधिक लाभदायी होता है। इसमें ऐसे अनेक पौषक तत्व पायें जाते है जो शरीर को बीमारियों से दूर रखता है जैसेकि प्रोटीन, विटामिन, शर्करा, लौह, कैल्शियम और वसा इत्यादि। इसके साथ ही पिंड खजूर शरीर में ऊर्जा का भी संचार करता है जिससे शरीर गर्म और चुस्त रहता है। सर्दियों में पिंड खजूर का सेवन करने का सबसे अच्छा तरीका है कि आप रोजाना 1 ग्लास उबले हुए दूध के साथ 100 ग्राम पिंड खजूर खाएं।

दालचीनी :-  अकसर लोग सर्दियों में शारीरिक संबंध बनाने से भी दूर रहते है या यूँ कहीं कि उनमे इतनी ऊर्जा नहीं रहती कि वे इसके लिए तैयार हो, किन्तु अपनी शक्ति को बढाने के लिए आप दालचीनी का चूर्ण बना लें और इसकी 2 ग्राम की मात्रा को शाम के समय दूध के साथ लें। आप दूध को मीठा करने के लिए चीनी की जगह शहद का इस्तेमाल करें। इससे आपके शरीर में नयी उर्जा का संचार होता है और आप अपने साथी के साथ कुछ हसीन पल बिता पाते हो।

मालकांगनी :-  ठण्ड के मौसम में स्वस्थ रहने के लिए आप मालकांगनी के 250 ग्राम चूर्ण को देशी घी में मिला लें। इसको मीठा करने के लिए आप इसमें 250 ग्राम ही चीनी या शक्कर मिला लें। तैयार चूर्ण को आप रोजाना सुबह शाम गाय के दूध के साथ 6 ग्राम की मात्रा में लें। इस उपाय के लगातार 40 दिन के सेवन से आपके शरीर में अदभुत शक्ति आती है और आपका शरीर निरोगी भी रहता है।

जलेबियाँ :-  आपने ये अवश्य सुना होगा कि सर्दियों में जो खाया जाता है वो सीधा शरीर में जाकर लगता है। ये सच भी है इसलिए आपको अपने बच्चों को सर्दियों में देशी घी से निर्मित जलेबियाँ अवश्य खिलानी चाहियें क्योकि इनके सेवन से उनके शरीर में बल बढता है, उनकी लम्बाई बढती है और उनकी बुद्धि का तेजी से विकास होता है। सर्दियाँ लगभग 3 महीने तक रहती है तो आप इस उपाय पूरी सर्दी जरुर अपनाएँ। जलेबियों के साथ अगर बच्चों को गाय का दूध भी दिया जाए तो अधिक लाभ मिलता है।

तुलसी :-  जब बात स्वस्थ रहने की हो और तुलसी का नाम ना आये ऐसा नहीं हो सकता क्योकि तुलसी हर मौसम में स्वास्थ्य के लिए लाभकारी होती है इसका इस्तेमाल करने के लिए आप तुलसी के पत्तों को अच्छी तरह से भुन लें और उसमें गुड मिला लें। इसके बाद आप इस मिश्रण को 1 – 1 ग्राम की गोलियों में परिवर्तित कर लें और इन्हें रोजाना सुबह शाम गाय के दूध के साथ ग्रहण करें। माना जाता है कि ये उपाय मर्दाना ताकत को बढाता है और शरीर को भरपूर उर्जा प्रदान करता है।

मुसली  :-  आप थोड़ी सफ़ेद मुसली लायें और उसे पीसकर पाउडर तैयार करें, अब रात को सोते समय इस पाउडर की एक चम्मच को गुनगुने दूध के साथ ग्रहण करें, इससे आपके शरीर में शक्ति का संचार होता है इसीलिए सफ़ेद मुसली को शक्तिवर्धक मुसली भी कहा जाता है।

मेवा (ड्राई फ्रूट्स) खायें : -बादाम,काजू , पिस्ता, किशमिश, अखरोट, मूंगफली ये सब पोषक तत्वों से भरपूर हैं । विटामिन, खनिज लवण एवं एंटी ऑक्सीडेंट तत्वों का भंडार हैं, इनका सर्दी के मौसम में सेवन करना सेहत के लिए बहुत फायदेमंद होता है साथ ही  दूध, दही, छाछ का नियमित सेवन शरीर के लिए अत्यंत लाभदायक होता है, शीत ऋतु में मक्का ,बाजरे की रोटी  घी, मक्खन, गुड के साथ सेवन करना स्वादिष्ट  एवं गुणकारी होता है ।

मौसमी फल एवं हरी सब्जियां खाँयें :- अनार,आंवला , सेब, संतरा, अमरुद जैसे फल एवं गाजर, मूली,पालक,शकरकंद,गोभी ,टमाटर, मटर जैसी सब्जियों  में विटामिन, खनिज लवण एवं फाइबर प्रचुर मात्रा में होते हैं, जिससे ये फल एवं सब्जियां सेहत के लिए बहुत फायदेमंद होती हैं ।

बाजरा की रोटी और खिचड़ी :- बाजरे की रोटी और सरसों का साग सर्दी में लोग खूब चाव से खाते हैं। सर्दी की मौसम में इसकी रोटी या खिचड़ी जरुर खानी चाहिये। बाजरा में मैग्नीशियम, कैल्शियम, मैग्नीज, ट्रिप्टोफेन, फास्फोरस, फाइबर (रेशा), विटामिन—बी और एण्टीआक्सीडेण्ट होते हैं जो शरीर के लिए काफी जरूरी होते हैं। साथ ही बाजरा बहुत ही गर्म अनाज है जो ठंड में शरीर को गर्म रखने में मदद करता है। साथ ही ये हमारी हड्डियों को मजबूती प्रदान करता है।

यह आसानी से पच जाता है।

शरीर व मस्तिष्क को स्वस्थ रखता है।

हार्ट अटैक एवं सिर दर्द से बचाता है।

इसमें मौजूद नियासिन (विटामिन बी 3) कोलेस्ट्राल की मात्रा को कम करता है।

फास्फोरस से ऊर्जा पैदा होता है जो वसा को पाचने और ऊतकों की मरम्मत करता है।

मधुमेह (टाइप 2) के खतरे को कम करता है।

बाजरे में पाया जाने वाला फाइबर, कैंसर (मुख्यतया स्तन कैंसर) के खतरे को कम करता है।

सर्दियों में इन बातों पर ध्यान दें :-

पानी पीने  में आलस्य ना  करें :- सर्दी में अधिकतर लोग पानी पीने  में आलस्य करते हैं या यूँ कहें की  प्यास ही कम लगती है,जिससे शरीर में पानी  की कमी हो जाती है, त्वचा फटने लगती है, कमजोरी आ सकती है, इसलिए दिन भर में 7- 8 गिलास पानी  अवश्य पीयें।

शारीरिक रूप से सक्रिय रहें : सुबह उठ कर  पार्क आदि में घूमने जायें , तेज क़दमों से चलें  या दौड़ लगायें।  इन उपायों से शरीर से पसीने  के रूप में हानिकारक तत्व बाहर  निकल जाते है।

मालिश करें :- सबह भ्रमण  से आने के बाद हो  सके तो  कुछ देर  सूर्य की धूप  में बैठ कर सरसों ,बादाम आदि के  तेल से मालिश करें सूरज की किरणों से  विटामिन डी मिलता है जो की हड्डियों  की मजबूती एवं ताकत  के लिए बहुत  जरुरी होता है l

अगर आपको ये पोस्ट अच्छी लगी तो जन-जागरण के लिए इसे अपने Facebook पर शेयर करें

ऐसी ही और बातों के लिए like करें हमारे पेज Such Khu को।

और ऐसे ही अन्य स्वास्थ्य सम्बन्धी जानकारी के लिए निचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें और गुरूप ज्वाइन करें।

जुडें हमारे फेसबुक ग्रुप से क्लिक करें आयुर्वेदिक देशी नुस्खे।