सर्दियों में क्या आप के भी हाथ-पांव उगलियाँ सूज जाती हैं ,तो जानिए इसके रामबाण घरेलू इलाज

398

अभी तक सर्दी ने अपना कहर दिखाना शुरू नहीं किया जबकि सर्दी का मौसम शुरू हो गया है, लेकिन जल्द ही जबरदस्त सर्दी पड़ने वाली है। इस तरह की मौसम में चिलब्लेन नाम की बीमारी बच्चों और बुजुर्गों को घेर सकती है। इस मौसम में हाथ और पैर की उंगलियों पर लाल निशान बनने लगते हैं तथा खुजली के साथ सूजन की समस्या आम है। इस बीमारी को चिलब्लेन कहते हैं।

हाथ-पैर में सूजन की बीमारी में ज्यादा खुजली के कारण हाथ पैरों में घाव होने की संभावना ज्यादा रहती है। ठंड में नंगे पैर घूमने से यह बीमारी होती है। यह एक कनेक्टिव टिश्यूज डिजीज है। इस कारण ठंड के दिनों में बच्चों और बुजुर्गों को काफी सावधान रहना चाहिए। चिलब्लेन की बीमारी से ऐसे बचा जा सकता है…

सुबह-शाम के समय काम करने के लिए गर्म पानी का इस्तेमाल करें।

घर से बाहर निकलने समय हाथों में दस्ताने और पैरों में जुराब जरूर पहनें।

संभव हो तो ज्यादा से ज्यादा ऊनी व सूती कपड़े पहनने की कोशिश करें।

ऐसे में ठिठुरा देने वाली ठंड ने लोगों को तरह तरह से परेशान करना शुरू कर दिया है। सर्दियों के शुरू होते ही लोगों के हाथ पैर की उंगलियों में सूजन आने लगती है। इतना ही नहीं कई बार तो इनमें बहुत दर्द होता है और खून भी निकलने लगता है। ऐसे में व्यक्ति को कोई भी काम करने में काफी तकलिफ होती है। इस समस्या से बचने के लिए नीचे दिए गए छोटे- छोटे उपायों को अपनाकर आप इससे निजात पा सकते हैं-

नमक से सिंकाई करें

यदि सर्दियों में हाथ-पैर में होने वाली सूजन और जलन से बचने के लिए गर्म पानी में सेंधा नमक मिलाकर 10 से 15 मिनट के लिए पैर इसमें रखें। इससे शरीर में मैगनीशियम की पूर्ति होती है और पैर को ड्राइनेस से बचाता है।

तेल और मोमबत्ती मिलाकर लगाएं

ठंड में यदि हाथ-पैर की सूजन और लालिमा से बचाव करना है तो मोमबत्ती व सरसों के तेल का मिश्रण बहुत फायदेमंद है। एक कटोरी में सरसों के तेल को गर्म कर उसमें एक मोमबत्ती डालें। फिर इसे जब तक पकाएं तब तक कि मोमबत्ती पूरा पिघलन न जाए। इसके बाद इसे ठंडा कर सूजन वाली जगह पर लगाएं। इसे दिनभर में 2 से 3 बार लगाने से आराम मिलेगा।

फिटकरी और नमक

ऐसा कहा जाता है कि फिटकरी कई बीमारियों में कारगर साबित होती है। फिटकरी हर घर में आसानी से ही मिल जाती है। पानी में फिटकरी और नमक डालकर उबाल लें और उस पानी में उंगलियों को धो लें। सूजन कम हो जाएगी और साथ में इंफेक्शन भी खत्म का खतरा भी कम हो जाएगा।

शलगम

शलगम 50 ग्राम ले लें और उसे 1 लीटर पानी में उबाल लें और फिर उस पानी को ठंडा कर लें। ठंडा पानी करने के बाद इस पानी से पैरों को दिन में 4-5 बार धों लें इससे उंगलियों की सूजन में आराम मिलेगा।

सरसो का तेल और सेंधा नमक

एक चम्मच सेंधा नमक में चार चम्मच सरसों का तेल मिलाएं। अब इस मिश्रण को गर्म कर लें। सूजन को कम करने के लिए इस मिश्रण को अपनी उंगलियों पर रात में लगाकर सो जाएं और सुबह उठकर पानी से धो लें।

नींबू के रस की कुछ बूंद

सूजी हुई हाथ पैर की ऊंगलियों पर नींबू के रस की कुछ बूंदे टपकाकर उसे रूई की सहायता से लगाएं। इससे उंगलियों की जलन भी कम हो जाएगी और सूजन भी।

हल्दी पाउडर

हल्दी बहुत गुणाकरी होती है जो हमें कई प्रकार के रोगों से बचाती है। ऑलिव ऑयल में थोड़ी सी मात्रा में हल्दी मिला लें। इस पेस्ट को सूजी हुई उंगलियों पर धीरे धीरे लगाएं और कुछ देर बाद हल्के गर्म पानी से धो लें। इससे दर्द और सूजन दोनों से राहत मिलती है।

एंटीबायोटिक प्याज

प्याज में कई कीटाणुनाशक गुण होते हैं। इसके इस्तेमाल से उंगलियों में होने वाली खुजली और सूजन दोनों से राहत मिल जाती है। इसके लिए आप सूजी हुई उंगलियों पर प्याज का रस लगाएं।

आटा भी फायदेमंद

आटे की गर्माहट से दर्द से जल्दी राहत मिल जाती है। आटे का पेस्ट बनाकर तीस मिनट तक दर्द वाली जगह पर लगाएं। उसके बाद गुनगुने पानी से धोकर हल्की मसाज के साथ मॉइस्चराइजर लगाएं।

अगर आपको ये पोस्ट अच्छी लगी तो जन-जागरण के लिए इसे अपने Facebook पर शेयर करें

ऐसी ही और बातों के लिए like करें हमारे पेज Such Khu को।

और ऐसे ही अन्य स्वास्थ्य सम्बन्धी जानकारी के लिए निचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें और गुरूप ज्वाइन करें।

जुडें हमारे फेसबुक ग्रुप से क्लिक करें आयुर्वेदिक देशी नुस्खे।