जानिये दादी-नानी के हैं कुछ आयुर्वेदिक घरेलु नुस्खे, जो रोज आ सकते हैं आपके काम

983

पुराने समय में हमारी दादी – नानी देशी नुस्खों से इलाज करती थी। हमारे घर की रसोई औषधियों का खजाना है। कई घरेलू चीजें ऐसी हैं जिनका उपयोग करके हम छोटी-मोटी हेल्थ प्रॉब्लम्स को आसानी से ठीक कर सकते हैं। बस जरूरत है तो किचन में या हमारे आसपास उपस्थित इन चीजों के गुणों व उपयोगों की सही जानकारी की।

हमारे घर की रसोई में ऐसी बहुत सारी चीजें मौजूद होती है जो बड़े काम की होती है। सदियों से हमारे दादा –दादी, नाना– नानी इन घरेलू उपायों से इलाज करना बेहतर समझते रहें है क्योंकि ये उपाय सदियों पुराने है और परखें हुए है चूकि ये पूरी तरह से प्राकर्तिक होते है इसलिए इनसे कोई नुक्सान भी नहीं होता। और अकसर ये बहुत सस्ते और असरदार भी होते है .घरेलू नुस्‍खों का कोई साइड इफेक्‍ट भी नहीं होता और आप आसानी से इनका प्रयोग भी कर सकते हैं।

कोई भी बीमारी हो उसके लिये सबसे बेहतर घरेलू नुस्खे ही रहते हैं। चाहे तो सिर में दर्द हो या फिर हाई बीपी की समस्या हो, घर की रसोई में रखे मसाले हर वक्त काम आ जाते हैं। आज कल बहुत ही कम लोग हैं जो घरेलू नुस्खे आजमाते हैं. मगर दोस्तों अगर पुराने जमाने की बात की जाए तो हमारी दादी – नानी इन्हीं के भरोसे अपनी पूरी जिंदगी काट लेती थीं।

हमारे पूर्वज प्राचीन समय से ही घरेलू चीजों का उपयोग इलाज के लिए करते आए है। चलिए आज जानते हैं कुछ ऐसे ही प्राचीन समय से घरेलू नुस्खों के बारे …

मक्खन में थोड़ा सा केसर मिलाकर रोजाना लगाने से काले होंठ भी गुलाबी होने लगते हैं।

मुंह की बदबू से परेशान हों तो दालचीनी का टुकड़ा मुंह में रखें। मुंह की बदबू तुरंत दूर हो जाती है।

लहसुन के तेल में थोड़ी हींग और अजवाइन डालकर पकाकर लगाने से जोड़ों का दर्द दूर हो जाता है।

लाल टमाटर और खीरा के साथ करेले का जूस लेने से मधुमेह दूर रहता है

अजवाइन को पीसकर उसका गाढ़ा लेप लगाने से सभी तरह के चमड़ी के रोग दूर हो जाते हैं।

ऐलोवेरा और आंवला का जूस मिलाकर पीने से खून साफ होता है और पेट की सभी बीमारियां दूर होती हैं।

बीस ग्राम आवला और एक ग्राम हल्दी मिलाकर लेने से सर्दी और कफ की तकलीफ में तुरंत आराम होता है

शहद आंवले का जूस और मिश्री सभी दस – दस ग्राम मात्रा में लेकर बीस ग्राम घी के साथ मिलाकर लेने से यौवन हमेशा बना रहता है।

अजवाइन को पीसकर और उसमें नींबू का रस मिलाकर लगाने से फोड़े-फुंसी दूर हो जाते हैं।

बहती नाक से परेशान हों तो युकेलिप्टस का तेल रूमाल में डालकर सूंघे। आराम मिलेगा।

बीस मिलीग्राम आंवले के रस में पांच ग्राम शहद मिलाकर चाटने से आंखों की ज्योति बढ़ती है।

रोज सुबह खाली पेट दस तुलसी के पत्तों का सेवन करने से शरीर स्वस्थ रहता है।

यदि आप कफ से पीड़ित हों और खांसी बहुत परेशान कर रही हो तो अजवाइन की भाप लें। कफ बाहर हो जाएगा।

अदरक का रस और शहद समान मात्रा में मिलाकर लेने से सर्दी दूर हो जाती है।

थोड़ा सा गुड़ लेने से कई तरह के रोग दूर होते हैं, लेकिन इसे ज्यादा नहीं खाना चाहिए चाहे ये कितना ही अच्छा लगता हो।

रोज खाने के बाद छाछ पीने से कोई रोग नहीं होता है और चेहरे पर लालिमा आती है।

छाछ में हींग, सेंधा नमक व जीरा डालकर पीने से हर तरह के रोग दूर हो जाते हैं।

नीम के सात पत्ते खाली पेट चबाने से डायबिटीज दूर हो जाती है।

20 ग्राम गाजर के रस में 40 ग्राम आंवला रस मिलाकर पीने से ब्लड प्रेशर और दिल के रोगों में आराम मिलता है।

बेसन में थोड़ा सा नींबू का रस, शहद और पानी मिलाकर लेप बनाकर लगाने से चेहरा सुंदर और आकर्षक लगता है।

चौलाई और पालक की सब्जी भरपूर मात्रा में खाने से जवानी हमेशा बनी रहती है।

शहद का सेवन करने से गले की सभी समस्याएं दूर होती हैं और आवाज मधुर होती है।

सर्दी लग जाए तो गुनगुना पानी पिएं। राहत मिल जाएगी।

छाछ में पांच ग्राम अजवाइन का चूर्ण मिलाकर लेने से पेट के कीड़े मर जाते हैं।

सुबह- शाम खाली पेट जामुन की गुठली का रस पीने से डायबिटीज में आराम मिलता है।

पित्त बढ़ने पर घृतकुमारी और आंवले का रस मिलाकर पिएं। राहत मिलेगी।

दालचीनी का पाउडर पानी के साथ लेने पर दस्त में आराम हो जाता है।

गुड़ में थोड़ी अजवाइन मिलाकर लेने से एसिडिटी में राहत मिलती है।

अगर आपको ये पोस्ट अच्छी लगी तो जन-जागरण के लिए इसे अपने Facebook पर शेयर करें

ऐसी ही और बातों के लिए like करें हमारे पेज Such Khu को।

और ऐसे ही अन्य स्वास्थ्य सम्बन्धी जानकारी के लिए निचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें और गुरूप ज्वाइन करें।

जुडें हमारे फेसबुक ग्रुप से क्लिक करें आयुर्वेदिक देशी नुस्खे।