जानिए क्यों होती है घमोरियां, इसके कारण और कारगर घरेलू उपाय

1175

घमौरी एक प्रकार का चर्मरोग है। यह रोग गर्मियों तथा बरसात के दिनों में व्यक्तियों की त्वचा पर हो जाता है। अक्सर पसीने की ग्रन्थियों का मुंह बन्द हो जाने के कारण हमारे शरीर पर छोटे-छोटे लाल दाने निकल आते हैं। इन दानों में खुजली व जलन होती है। सामान्य भाषा में हम इसे घमौरी (ghamori) कहते हैं।

घमोरियां ज़्यादातर गले, पेट, पीठ, छाती एवं बगल पर अधिक प्रकोप दिखाती हैं। जिसका मुख्य कारण पसीना होता है आज के लखे में आप जानेंगे घमौरी होने के कारण, लक्षण, और घमौरियों से बचने का घरेलू उपाय के बारे में।

घमोरी होने के कारण – Prickly Heat Reasons

गर्मी और नमी वाला मौसम अलाइयों का मुख्य कारण होता है। त्वचा को ठंडा करने शरीर पर पसीना आता है। ज्यादा गर्मी में सामान्य से अधिक पसीना आता है और पसीने की गंथियों पर दबाव पड़ता है। पसीना ग्रंथि के छेद बंद हो जाते है और पसीना बाहर नहीं निकल पाता और उसमे संक्रमण हो जाता है।

शरीर की साफ सफाई उचित तरीके से नहीं होने के कारण इन्फेक्शन की वजह से भी अलाइयाँ ghamoriya  हो जाती है। टाइट कपड़े पहनने के कारण भी स्किन का पसीना अंदर दब जाता है और सूख भी नहीं पाता इससे अलाइयाँ हो सकती हैं। इन बातों का ध्यान रखने से घमोरी से बचा जा सकता है।

फिर भी घमोरिया हो जाए तो आसान से घरेलु नुस्खे अपनाने से समस्या का समाधान किया जा सकता है।

तेलिय कॉस्मेटिक का प्रयोग करने से क्योकि ये आपके स्वेट ग्लैंड को बंद कने का कम करते है।

सदियों के दौरान पसीना आने पर भी अधिक गर्म कपड़े पहनने से।

ADHD और ब्लड प्रेशर जैसे समस्यायों मे प्रयोग होने वाली दवाओ का सेवन करने से भी घमोरियां हो सकती है

छोटे बच्चे घमोरियां की समस्या से अधिक परेशांन रहते है क्योकि उनके स्वेट डक्ट पूरी तरह विकसित नहीं हो पाते जिसके कारण उन्हें घमोरिया अधिक परेशांन करती है।

घमौरियां दूर करने के घरेलू उपाय

वैसे तो घमौरियां कुछ दिनों में अपने आप ही ठीक हो जाती है लेकिन यदि घमौरियों से पीड़ित व्यक्ति इससे अधिक परेशान है तो घमौरियों का प्राकृतिक चिकित्सा से उपचार किया जा सकता है। अगर आपको घमोरियां हो गयी हों तो ऐसे में आप तुरंत आराम के लिए निम्नलिखित घरेलू उपाय अपनाकर तुरंत आराम पा सकते हैं।

रामबाण उपाय

नमक, हल्दी और मेथी तीनों को बराबर मात्रा में लेकर पीस लें, नहाने से पांच मिनट पहले पानी मिलाकर इनका उबटन बना लें। इसे साबुन की तरह पूरे शरीर में लगाकर 5 मिनट बाद नहा लें। सप्ताह में एक बार प्रयोग करने से घमौरियों, फुंसियों तथा त्वचा की सभी बीमारियों से मुक्ति मिलती है। साथ ही त्वचा मुलायम और चमकदार भी हो जाती है।

तुरंत आराम पाने के लिए एलोवेरा

घमोरियों से छुटकारा पाने के घरेलू नुस्खे में एलोवेरा का उपयोग बहुत ही लाभदायक होता है एलोवेरा अपने हीलिंग गुणों के कारण जाना जाता है, जिसमे एंटी बैक्टीरियल और एंटी सेप्टिक गुण पाए जाते है जो अधिकांश लोगों के लिए त्वचा की समस्याओं जैसे घमौरियों के लिए का रामबाण इलाज होता है।

एलोवेरा का रस या जेल लगाने से घमौरियां जल्दी ठीक होती हैं। आप चाहे तो इसकी जगह एलो रिच मोइस्तुरिज़िन्ग लोशन का भी इस्तेमाल कर सकते है| ये घमोरियो को ठीक करने के साथ साथ स्किन इन्फेक्शन से भी राहत देने भी मदद करेगा।

घमौरियों का रामबाण इलाज आइस पैक लगाए

आइस पैक घमौरी के लिए अच्छा घरेलु उपचार है प्लास्टिक की थैली में आइस क्यूब्स भरकर घमौरयों पर लगाने से आराम मिलता है। आइस पैक लगाते समय यह सावधानी जरूर रखें कि इसे सीधे त्वचा के संपर्क में लाने की बजाय कपड़े में लपेट लें। 5-10 मिनट तक इसे लगाएं। आइस पैक चार से छह घंटे के अंतराल मे फिर से इस्तेमाल किया जा सकता है।

मुल्‍तानी मिट्टी का उपयोग

गर्मियों में होने वाली घमौरियों के उपचार में मुल्तानी मिट्टी अचूक औषधि है। घमौरी होने पर मुल्‍तानी मिट्टी का लेप बनाकर लगाने से लाभ मिलता है। या मुल्तानी मिट्टी में गुलाब जल मिलाकर घमौरियों पर लगाने से जल्द राहत मिलेगी। मुलतानी मिट्टी के लेप से घमौरी में होने वाली जलन और खुजली में भी राहत मिलती है।

चंदन पाउडर

चंदन की लकड़ी के लेप में एंटी-इंफ्लेमेटरी और ठंडक पहुंचाने वाला गुण होते है। इसका सुगंध लेप त्वचा की घमौरियों वाली जलन पर ताजगी भरे मलहम का काम करता है। चंदन पाउडर और धनिया पाउडर को बराबर मात्रा में मिलाकर इनमें गुलाबजल मिलाकर गाढ़ा लेप बनाएं तथा इस लेप को शरीर पर कुछ देर लगाकर ठंडे पानी से धो लें। यह भी घमौरी का घरेलू उपचार माना जाता है।

चन्दन पाउडर व धनिया पाउडर गुलाबजल में डालकर पेस्ट बना लें इसे घमोरिओं पर लगा लें। सूखने पर पानी से धो लें। सुबह शाम एक सप्ताह लगायें। घमोरियां  Alaiya ठीक हो जाएँगी।

एक गिलास पानी में एक नींबू का रस निचोकर दिन में तीन बार लेने से घमोरियां ठीक होती है। नींबू का रस मुल्तानी मिटटी मे मिलाकर घमोरियों alaiya पर लगाने से भी आराम मिलता है।

करेले का रस चौथाई कप लें इसमें इतना ही पानी मिलाकर पिएँ। चार पांच दिन सुबह शाम पीने से घमौरियाँ   ghamoriya  ठीक हो जाती है।

करेले के रस में लहसुन का रस और सरसों का तेल मिलाकर कुछ दिन रोज हल्की मालिश करने से खुजली और अलाइयां  ghamori मिट जाती है

गर्मी में पानी , शर्बत , ठंडाई , और  फलों का जूस इत्यादि का सेवन ज्यादा करने से घमोरी  ghamori  नहीं होती है।

अगर आपको इससे कोई फायदा लगे तो इसे शेयर करके औरों को भी बताएं. साथ ही ध्यान रखें कि सभी घरेलु नुस्खे सभी के लिए बराबर कारगर नहीं होते. अपनी तासीर के हिसाब से इनका इस्तेमाल करें. कोई भी दिक्कत हो तो तुरंत वैद्य या चिकित्सक से संपर्क करें.

अगर आपको ये पोस्ट अच्छी लगी तो जन-जागरण के लिए इसे अपने Facebook पर शेयर करें ।

ऐसी ही और बातों के लिए like करें हमारे पेज Such Khu को।

और ऐसे ही अन्य स्वास्थ्य सम्बन्धी जानकारी के लिए निचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें और गुरूप ज्वाइन करें।

जुडें हमारे फेसबुक ग्रुप से क्लिक करें आयुर्वेदिक देशी नुस्खे।


Warning: A non-numeric value encountered in /home/khabarna/public_html/suchkhu.com/wp-content/themes/Newspaper/includes/wp_booster/td_block.php on line 352