जानिये फ्रिज का ठंडा पानी पीने से सेहत को होने वाले नुकसान और मटके का पानी पीने के फायदे

1006

चिलचिलाती गर्मी से राहत पाने के लिए अक्सर लोग ठंडा पानी पीते हैं। बाहर से आते ही लोग फ्रिज में रखा ठंडा पानी तुंरत पी लेते हैं जोकि सेहत को नुकसान पहुंचता है। अयुर्वेद में इस आदत को अनहैल्दी माना जाता है। इससे शारीरिक संबंधित कई परेशानियों झेलनी पड़ सकती है। अगर आप भी अधिक मात्रा में ठंडा पानी पीते हैं तो आज ही इस आदत को बदल लें।

अगर आप भी उनमें से एक है तो ये खबर आपके लिए ही हैं। आपको बता दें कि फ्रिज का ठंडा पानी आपके गले को तर तो करता है, पर वहीं ये सेहत के लिए बेहद नुकसानदेह साबित होता है। फ्रिज का ठंडा पानी पीने से सेहत को कई सारे नुकसान होते हैं , जिसे जानना आपके लिए बेहद जरूरी है।

आइये जानते हैं फ्रिज के पानी पीने से होने वाले नुकसान के बारे में।।

दरअसल स्वास्थ्य विशेषज्ञों की माने तो फ्रिज का ठंडा पानी पीने से आंत सिकुड़ जाती है, जिससे खाना सही ढंग से पच नहीं पाता है। ऐसे में खाना ना पचने के कारण कब्ज जैसी समस्या हो सकती है। वहीं आयुर्वेद में कब्ज को सारी बीमारियों की जड़ कहा गया है। इस तरह फ्रिज का ठंड़ा पानी पीने से उपजे कब्ज की वजह से आपके शरीर का पूरा तंत्र बिगड़ जाता है, फलस्वरूप कई अन्य सारी बीमारियां जन्म ले लेती हैं।

असल में शरीर का सामान्य तापमान लगभग 37 डिग्री सेल्सियस होता है। ऐसे में जब आप ठंडा पानी पीते हैं तो बॉडी को तापमान नियंत्रित करने के लिए अपेक्षाकृत अधिक एनर्जी खर्च करनी पड़ती है और इस वजह से जहां शरीर की ऊर्जा अनावश्यक ढंग से खत्म होती हैं, वहीं इससे शरीर में पोषक तत्वों की कमी भी हो जाती है।

बहुत अधिक ठंडे पानी पीने से शारीरिक तंत्रों में सिकुड़न आती है, ऐसे में कोशिकाओं के बार-बार सिकुड़ने से इसका असर शरीर के मेटाबॉलिज्म पर पड़ता है और इससे दिल की धड़कनों पर गलत प्रभाव पड़ता है।

दरअसल फ्रिज का पानी कृत्रिम रूप से ठंडा किया जाता है, ऐसे में तापमान निर्धारित ना होने की वजह से फ्रिज में रखा पानी बार-बार ठंडा और गर्म होता रहता है, वैसे आमतौर पर फ्रिज में रखे पानी का तापमान सामान्य से काफी कम होता है और इसलिए इसकी वजह से सर्दी-जुकाम और खांसी की समस्या हो सकती है। साथ ही इसे पीने से फेफड़े से जुड़े घातक रोग भी हो सकते हैं।

वहीं फ्रिज का ठंडा पानी पीने से गला खराब होने की संभावना सबसे अधिक रहती है। वहीं अगर आप रोजाना ही फ्रिज का ठंडा पानी पीते हैं तो इससे टॉन्सिल्स की समस्या भी हो सकती हैं। इसलिए बेहतर है कि फ्रिज की बजाय मिट्टी के घड़े में रखा पानी पिया जाए।

दरअसल, मिट्टी में कई प्रकार के रोगों से लड़ने की क्षमता होती है। इसमें लाभकारी मिनरल्स मौजूद होते हैं जो शरीर को विषैले तत्वों से मुक्ति दिलाते हैं। इसलिए आज हम आपको इस पोस्ट में बतायेंगे कि किस तरह घड़े का पानी मनुष्य को स्वस्थ बनाये रखने में उसकी मदद करता है। तो आईये जानते हैं मटके का पानी पीने के ये बेशकीमती फायदे।

मटके का पानी पीने के फायदे

मिट्टी के बर्तन में रखा पानी पीने से त्वचा संबंधित कई परेशानियां दूर हो जाती हैं। यह फोड़े, फुंसी, मुंहासे और त्वचा से संबंधित अन्य रोगों को होने नहीं देता। इसमें रखा पानी पीने से आपकी त्वचा दमकने लगती है।

मटके का पानी ब्लड प्रेशर को भी नियंत्रित रखने में आपकी मदद करता है। यह बैड कॉलेस्ट्रोल की मात्रा को कम करता है और हार्ट अटैक की संभावनाओं को भी कम कर देता है।

मिट्टी के बर्तन में रखा पानी बिल्कुल शुद्ध होता है। यह उन सब बैक्टीरिया को खत्म कर देता है जो डायरिया, पीलिया और डीसेंट्री जैसी बीमारियों को जन्म देता है।

मिट्टी में एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होने के कारण यह शरीर में दर्द, ऐठन या सूजन जैसी समस्या को नहीं होने देता। इतना ही नहीं, यह आर्थराइटिस बीमारी में भी बेहद लाभकारी माना जाता है।

अमेरिकन कैंसर सोसाइटी की मानें तो मिट्टी में मौजूद गुण कैंसर की शुरुवात को रोक सकते हैं। क्योंकि मिट्टी के बर्तन में रखे पानी में अनेकों कैंसर विरोधी तत्व मौजूद होते हैं जो उसे बनने से रोकते हैं।

पेट से संबंधित बीमारियों के लिए भी मटके का पानी बहुत फ़ायदेमंद होता है। इसका नियमित उपयोग पेट दर्द, गैस, एसिडिटी और कब्ज़ जैसी समस्याओं से छुटकारा दिला सकता है।

एनीमिया की बीमारी से जूझ रहे व्यक्तियों के लिए मिट्टी के बर्तन में रखा पानी पीना वरदान साबित हो सकता है। मिट्टी में आयरन भरपूर मात्रा में मौजूद होता है। हम आपको बता दें कि एनीमिया आयरन की कमी से होने वाली एक बीमारी है।

अगर आपको ये पोस्ट अच्छी लगी तो जन-जागरण के लिए इसे अपने Facebook पर शेयर करें

ऐसी ही और बातों के लिए like करें हमारे पेज Such Khu को।

और ऐसे ही अन्य स्वास्थ्य सम्बन्धी जानकारी के लिए निचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें और गुरूप ज्वाइन करें।

जुडें हमारे फेसबुक ग्रुप से क्लिक करें आयुर्वेदिक देशी नुस्खे।


Warning: A non-numeric value encountered in /home/khabarna/public_html/suchkhu.com/wp-content/themes/Newspaper/includes/wp_booster/td_block.php on line 352