हर रोज एक तेज-पत्ता खाने और 1 पत्ता कमरे जलाने से होते बहुत स्वास्थ्य लाभ,जानिये कैसे पूरी विधि के साथ

236

आप सभी को पता ही है कि भारतीय घरों के किचन में तेजपत्ता जरूर मौजूद रहता है इतना ही नहीं बताते चलें कि तेजपत्ता मसाले के रूप में प्रयोग किया जाता है। इसके अलावा आपको ये भी बततो चलें कि इसका प्रयोग आयुर्वेदिक औषधि के रूप में भी होता है सूखे हुए अच्छे तेज़ पत्ते का प्रयोग खाने को सुगन्धित बनाने के लिए होता है। आपने अगर कभी गौर किया होगा तो देखा होगा कि ऐसे पकवान जिसे बनने में एक लम्बा समय लगता है, तेज़ पत्ते का प्रयोग किया जाता है।

एक बार व्यंजन तैयार हो जाने पर परोसने के पहले तेज़ पत्ते को निकाल दिया जाता है। तेज़ पत्ते से आने वाली सुगंध इसके स्वाद से अधिक महत्वपूर्ण होती है। तेज़ पत्ते के कई स्वस्थ सम्बंधित लाभ है। प्राचीन काल से ही इसका प्रयोग लीवर, आंत और किडनी के इलाज में होता रहा है। कई बार इसका इस्तेमाल मधुमक्खि के काट लेने पर ज़ख्म के स्थान पर किया जाता है। इन दिनों कई लोग इसका इस्तेमाल कई छोटी बड़ी रोगों के निवारण के लिए कर रहे हैं।

तेजपत्ता को जलाने के स्वास्थ्य लाभ

इतना ही नहीं लेकिन क्या आप जानते हैं कि तेज पत्ते के और भी फायदे हैं। जी हां दरअसल हाल ही में रूस में हुए एक सर्वे के अनुसार पता चला है कि तेज पत्‍ते का प्रयोग तनाव दूर करने में किया जा सकता है। तेज पत्‍ता एरोमैटिक होता है। जी हां जिस तरह से हम स्‍पा आदि में रिलैक्‍स होने के लिए एरोमा थेरेपी का इस्‍तेमाल करते हें तेज पत्‍ते के जरिए आप उसका आनंद और फायदा अपने घर के कमरे में उठा सकते हैं।

इसके अलावा ये भी बता दें कि तेज पत्ते को एक बर्तन में डालें और जला दें और अब इसे ऐसे ही कमरे में रख दें। क्योंकि ऐसा करने से करीब 15 मिनट के लिए, कमरे को बाहर से बंद कर दें। कुछ देर बाद जब आप कमरा खोलेंगे तो कमरे में एक रिलैक्सिंग खुशूब फैली हुई है। ये काफी सुकून भरा है, कुछ देर कमरे में रिलैक्‍स होकर बैठेंगे तो आपको सुकून मिलेगा।

अब जानते है तेज पत्ते अन्य आयुर्वेदिक उपयोग और स्वास्थ्य लाभ

सिरदर्द में फायदेमंद तेजपत्ता

आजकल लोगों के लिए सिरदर्द की समस्या आम हो गई है। दिन भर काम का तनाव, भाग-दौड़, कंप्यूटर पर लगातार काम, फोन के स्क्रीन पर लगातार काम , ज्यादा धूप में घूमना, ज्यादा ठंड,  ऐसे असंख्य सिरदर्द होने के कारण है। इसके लिए तेजपत्ता का घरेलू उपाय बहुत ही फायदेमंद होता है।  10 ग्राम तेजपत्ता के पत्तों को जल में पीसकर, कपाल पर लेप करने से ठंड या गर्मी से उत्पन्न सिरदर्द से आराम मिलता है।

सर्दीजुकाम से दिलाये राहत तेजपत्ता

मौसम बदला कि नहीं बच्चे से लेकर बड़े-बूढ़े सभी सर्दी-जुकाम के परेशानियों से जुझने लगते हैं। चाय पत्ती की जगह तेजपात के चूर्ण की चाय पीने से सर्दी-जुकाम, छीकें आना, नाक बहना, जलन, सिर-दर्द आदि में शीघ्र लाभ मिलता है। इसके अलावा 5 ग्राम तेजपात छाल और 5 ग्राम छोटी पिप्पली को पीसकर, मिलाकर 500 मिग्रा चूर्ण को शहद के साथ चटाने से खांसी और जुकाम में लाभ होता है।

आँखों के बीमारी में फायदेमंद तेजपत्ता

आँख संबंधी बीमारियों में बहुत कुछ आता है, जैसे- सामान्य आँख में दर्द, रतौंधी, आँख लाल होना आदि। इन सब तरह के समस्याओं में तेजपत्ता से बना घरेलू नुस्ख़ा बहुत काम आता है। तेजपत्ता को पीसकर आंख में लगाने से आँख संबंधी बीमारी से राहत मिलती है।

हकलाने की समस्या सुधारने में फायदेमंद तेजपत्ता

अगर किसी को रुक-रुक कर या हकला कर बात करने की समस्या है तो तेजपत्ते का घरेलू उपचार फायदेमंद साबित हो सकता है। तेजपत्ता के पत्तों को नियमित रूप से चूसते रहने से हकलाहट में लाभ होता है।

दमा या अस्थमा रोग तेजपत्ते का इस्तेमाल

हर बार जब मौसम बदलता है या ज्यादा ठंड का मौसम आता है तब दमे की मरीज की परेशानी बढ़ जाती है।

तेजपत्ता और पीपल को 2-2 ग्राम की मात्रा में अदरक के मुरब्बे की चाशनी में बुरक कर चटाने से दमा के बीमारी में लाभ मिलता है। इसके अलावा सूखे तेजपत्ता के चूर्ण को एक चम्मच की मात्रा में एक कप गर्म दूध के साथ सुबह-शाम नियमित सेवन करने से सांस संबंधी समस्या में लाभ होता है।

दस्त रोके तेजपत्ता (Bay leaves Benefits in Diarrhoea in Hindi)

अगर ज्यादा मसालेदार खाना, पैकेज़्ड फूड या बाहर का खाना खा लेने के कारण दस्त है कि रूकने का  नाम ही नहीं ले रहा तो तेजपत्ता का घरेलू उपाय बहुत काम आयेगा। 1-3 ग्राम पत्ते के चूर्ण में मिश्री तथा शहद मिलाकर सेवन करने से अतिसार तथा पेट दर्द कम होता है।

लीवर के सूजन में फायदेमंद तेजपत्ता ( Tejpatta  Treats Liver Inflammation  )

अगर लीवर में किसी बीमारी के कारण सूजन हो गया है तो तेजपत्ता का इस तरह से सेवन करने पर जल्दी आराम मिलता है। समान मात्रा में तेजपत्ता, लहसुन, काली मरिच, लौंग तथा हल्दी के चूर्ण का काढ़ा बनाकर 10-20 मिली मात्रा में पीने से लीवर संबंधी रोगों में लाभ होता है।

प्रसव प्रक्रिया को बनाये आसान तेजपत्ता (Tejpatta Help to Ease Delivery )

हर गर्भवती महिला के लिए डिलीवरी का समय बहुत ही कष्टदायक होता है। तेजपत्ता का इस तरह से प्रयोग करने पर प्रसव प्रक्रिया को आसान बनाने में फायदा मिलता है। इसके पत्तों की धूनी (योनि में) देने से बच्चा सुख से उत्पन्न हो जाता है।

शरीर से आनेवाले बदबू को करे दूर तेजपत्ता (Benefits of Tejpatta to Get Rid from Body Odor)

गर्मी के मौसम में पसीने के कारण शरीर से बदबू आने लगती है और इसके कारण बहुत लोगों को शर्मिंदगी का सामना करना पड़ता है। इसके लिए समान मात्रा में तेजपत्ता, सुंधबाला, अगरु, हरीतकी एवं चंदन को पीसकर शरीर पर लगाने से पसीने से उत्पन्न होने वाली शरीर का दुर्गंध कम होता है।

तेजपत्ता का इस्तेमाल कैसे करना चाहिए? (How to Use Bay Leaves?)

बीमारी के लिए तेजपत्ते के सेवन और इस्तेमाल का तरीका पहले ही बताया गया है। अगर आप किसी ख़ास बीमारी के इलाज के लिए तेजपत्ता   का उपयोग कर रहे हैं तो आयुर्वेदिक चिकित्सक की सलाह ज़रूर लें। इसके अलावा चिकित्सक के परामर्श के अनुसार 1-3 ग्राम पत्ते के चूर्ण का प्रयोग कर सकते हैं।

अगर आपको ये पोस्ट अच्छी लगी तो जन-जागरण के लिए इसे अपने Facebook पर शेयर करें ।

ऐसी ही और बातों के लिए like करें हमारे पेज Such Khu को।

और ऐसे ही अन्य स्वास्थ्य सम्बन्धी जानकारी के लिए निचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें और गुरूप ज्वाइन करें।

जुडें हमारे फेसबुक ग्रुप से क्लिक करें आयुर्वेदिक देशी नुस्खे।