जानिए, सर्दी में सरसों के तेल के अदभुत चमत्कारिक फायदे

999

सरसों के तेल के प्रयोग के बारे में आयुर्वेद में भी देखा जा सकता है। शायद ही कोई एेसा घर होगा यहां इस तेल का प्रयोग नहीं होता हो।सरसों के तेल का इस्तेमाल हम अपनी रसोई में करते हैं,इससे न सिर्फ हमारी सब्जी अच्छी बनती है बल्कि यह हमारी सेहत के लिए भी बहुत ही फायदेमंद होता हैं। इसलिए हम इसका उपयोग खाने के साथ-साथ दवा के रूप में भी कर सकते हैं।

इसमें कई सारे ऐसे पोषक तत्व हैं जो हमारे बालों से लेकर हमारे शरीर के सारी त्वचा को फायदा पहुंचाते हैं।यह एक बहुत अच्छा पेनकिलर भी कहा जा सकता है।जिससे गठिया व कान का दर्द  तक ठीक हो जाता है।अगर इसे कपूर के साथ मिलाकर उपयोग में लाया जाए तो इसके फायदे दुगुने हो जाते है।

सरसों के तेल को बहुत पौष्टिक माना जाता है, इसलिए इसका प्रयोग खाना बनाने के लिए भी किया जाता है। इसकी तासीर गर्म होने से सर्दियों में यह अत्यंत लाभकारी माना जाता है।

सरसों के तेल की मालिश करने से शरीर की मांसपेशियां मजबूत होती हैं और रक्त संचार भी बेहतर होता है। यह शरीर में गर्माहट पैदा करने में भी मददगार होता है।

दांतों की तकलीफ में सरसों के तेल में नमक मिलाकर रगड़ने से फायदा होता है, साथ ही दांत पहले से अधिक मजबूत हो जाते हैं।

त्वचा संबंधी समस्याओं में भी बेहद फायदेमंद होता है। यह शरीर के किसी भी भाग में फंगस को बढ़ने से रोकता है और त्वचा को स्वस्थ और चमकदार बनाता है।

यह बालों की जड़ों को पोषण देकर रक्तसंचार बढ़ाता है जिससे बालों का झड़ना बंद हो जाता है। इसमें ओलिक एसिड और लीनोलिक एसिड पाया जाता है, जो बालों की ग्रोथ बढ़ाने के लिए अच्छे होते हैं।

सरसों तेल को कई लोग एक टॉनिक के रूप में भी प्रयोग करते हैं। यह शरीर की कार्य क्षमता बढ़ा कर शरीर की कमजोरी को दूर करने में सहायता करता है। इस तेल की मालिश के बाद स्नान करने से शरीर और त्वचा दोनों स्वस्थ रहते हैं।

सरसों के तेल की मालिश से गठिया रोग और जोड़ो का दर्द भी ठीक हो जाता है। ठंड के दिनों में सरसों का तेल गर्माहट के लिए रामबाण इलाज है, हल्के गर्म तेल की मसाज से रूखी-सूखी त्वचा भी नर्म, मुलायम व चिकनी हो जाती है।

इसमें विटामिन ई भी अच्छी मात्रा में पाया जाता है, जो त्वचा को अल्‍ट्रावाइलेट किरणों और पल्‍यूशन से बचाता है। साथ ही यह झाइयों और झुर्रियों से भी काफी हद तक राहत दिलाने में मदद करता है।

जो लोग गठिये से परेशान होते हैं उन्हें सरसों के तेल में कपूर मिलाकर मालिश  करने से काफी आराम मिलता है।

सरसों के तेल की कुछ बूंदे,थोडा बेसन और हल्दी मिक्स करके अपने चेहरे पर लगाएं, थोड़ी देर बाद अपना चेहरा साफ़ पानी से  धो लें,इससे चेहरा साफ होकर निखर जाता है।

सरसों के तेल का लगातार सेवन करने से हमें दिल की बिमारी का सामना नहीं करना पड़ता।

सर्दियों के दिनों में सरसों के तेल में थोड़ी हींग, अजवाइन और लहसुन की कलियाँ डालकर उसे गर्म करें, फिर उसे कमर दर्द वाली जगह पर मसाज करें। ऐसा करने से आप का कमर दर्द ठीक हो जाएगा।

भूख नहीं लगने पर भी सरसों का तेल आपके लिए बेहद फायदेमंद साबित हो सकता है। अगर भूख न लगे, तो खाना बनाने में सरसों के तेल का उपयोग करना लाभप्रद होता है। शरीर में पाचन तंत्र को दुरूस्त करने में भी लाभदायक होता है।

सरसों के तेल का प्रयोग करने से से कोरोनरी हार्ट डिसीज का खतरा भी कम होता है। इसलिए सरसों के तेल को अपने खाने में जरुर शामिल करें।

अगर आपको ये पोस्ट अच्छी लगी तो जन-जागरण के लिए इसे अपने Facebook पर शेयर करें

ऐसी ही और बातों के लिए like करें हमारे पेज Such Khu को।

और ऐसे ही अन्य स्वास्थ्य सम्बन्धी जानकारी के लिए निचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें और गुरूप ज्वाइन करें।

जुडें हमारे फेसबुक ग्रुप से क्लिक करें आयुर्वेदिक देशी नुस्खे।