जानिए करौंदा किन स्वास्थ्य लाभों से भरपूर है और इसके औषधीय गुण

382

क्रैनबेरी यानी करौंदा सेहत संबंधित कई गुणों से भरपूर है। करौंदे में फाइबर, विटामिन-सी, विटामिन-ए और विटामिन-के की अच्छी मात्रा होती है। यही कारण है कि इन्हें सुपरफूड की कैटेगरी में शामिल किया गया है। प्रोएंथोस्यानिडींस (proanthocyanidins) नाम का एंटीऑक्सीडेंट भी होता है, जो कई बीमारियों से लड़ने की क्षमता रखता है।

करौंदे (Health Benefits of Karonde) का कच्चा फल कड़वा, अग्निदीपक, खट्टा, स्वादिष्ट और रक्तपित्तकारक है। यह विष तथा वातनाशक भी है। यह एक छोटा-सा फल है, पर इसमें काफ़ी औषधीय गुण मौजूद हैं। उपचार के आधार से इसमें साइट्रिक एसिड और विटामिन सी समुचित मात्रा में है। इसमें कई सामान्य बीमारियों को नष्ट करने की अद्भुत क्षमता है। इसके फल, पत्तियों एवं जड़ की छाल औषधीय प्रयोग में लाई जाती है। करौंदे के फल का स्वरस 5 से 10 ग्राम, पत्तियों का रस 12 से 24 ग्राम तक, पत्तियों का काढ़ा 60 से 120 ग्राम और फलों का शर्बत 12 ग्राम की मात्रा में इस्तेमाल किया जाता है।

1।एंटीऑक्सीडेंट गुणों से भरपूर:

करौंदे में एंटीऑक्सीडेंट गुण भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं। इसके एंटीऑक्सिडेंट गुण कई अलग-अलग प्रकार की बीमारियों से लड़ने में मदद करते हैं।

2।यूरीन इन्फेक्शन से बचाए करौंदा

क्रैनबेरी को पेशाब के इंफेक्शन (यूरीन इन्फेक्शन) से लड़ने में मदद करने का अहम सोर्स माना गया है। जिन लोगों को बार-बार पेशाब के इंफेक्शन की शिकायत होती है, उन्हें क्रैनबेरी का जूस पीने की सलाह दी जाती है। प्रोएंथोस्यानिडींस नाम का एंटीऑक्सीडेंट पेशाब की नली में बनने वाले बैक्टीरिया को बनने से रोकता है, जिसके कारण यूरीन इन्फेक्शन से बचाव होता है।

3।ब्रेन के लिए फायदेमंद है करौंदा:

क्रैनबेरी में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट और एंटी-इंफ्लामेटरी तत्व याद्दाश्त को बेहतर बनाते हैं और ध्यान लगाने में मदद करते हैं। मस्तिष्क के लिए आरप अपनी रोजमर्रा की डाइट में स्नैक्स या जूस के तौर पर करौंदा शामिल कर सकते हैं।

4।दिल की बीमारियों से बचाए:

कुछ रिसर्च में पता चला है कि क्रैनबेरी दिल की बीमारियों के खतरे को कम करने में मदद करता है। यह एंटी-इंफ्लेमेटरी गुणों के कारण प्लेटलेट के स्तर को नियंत्रित करने और ब्लड प्रेशर कंट्रोल करने में मदद करता है।

5।कैंसर से बचाव:

स्टडीज के अनुसार, क्रैनबेरी ट्यूमर बनने की प्रक्रिया को धीमा कर देता है। प्रोस्टेट, लिवर, ओवेरियन और कोलन कैंसर से बचाव के लिए इसके सकारात्मक प्रभाव देखे गए हैं।

6।फैट कम करे क्रैनबेरी

क्रैनबेरी का जूस फैट कम करने में मदद करता है। फाइबर की अच्छी मात्रा होने के कारण यह देर तक भूक का एहसास नहीं होने देता और पेट भरा हुआ महसूस होता है।

7।त्वचा में निखार लाए:

क्रैनबेरी त्वचा को निखार कर उसे मुलायम बनाने में मदद करती है। निखरी त्वचा पाने के लिए दो चम्मच सूखी क्रैनबेरी में जरूरत के अनुसार शहद और अपनी पसंद का एसेंशियल ऑयल मिला कर त्वचा पर लगाएं। फिर 10 मिनट बाद मुंह धो लें। आप खुद त्वचा में निखार होता हुआ महसूस करेंगे।

अन्य फायदे भी जानिए

करौंदे के कच्चे फल की सब्ज़ी खाने से कब्ज़ियत दूर होती है।

बुख़ार होने पर करौंदे के पत्ते का क्वाथ पिलाना लाभदायक होता है।

सूखी खांसी में एक चम्मच करौंदे के पत्ते का रस और एक चम्मच शहद मिलाकर सुबह-शाम सेवन करने से फ़ायदा होता है।

इसके कच्चे फल की चटनी खाने से मसूड़ों की सूजन और दांतों की पीड़ा में लाभ मिलता है।

करौंदे के मूल को उबालकर पिलाने से सर्प विष दूर हो जाता है।

करौंदे के ताज़े पत्ते लेकर उनका रस निकालें, छानकर ड्रॉपर से दो-दो बूंद आंखों में डालने से शुरुआती मोतियाबिंद ख़त्म हो जाता है।

करौंदे के बीजों के रोगन (बीजों को पीसकर तेल में पकाया हुआ तेल) को मलने से हाथ-पैर की बिवाई होने पर बेहतर लाभ होता है।

गर्मियों में रोज़ाना इसके मुरब्बे का सेवन करने से दिल के रोगों से बचाव होता है।

इसको खाने से प्यास का शमन होता है और वायु दोष से छुटकारा मिलता है।

करौंदे में लौह की मात्रा होने के कारण शरीर में रक्त की कमी की समस्या दूर होती है।

यह वायुशामक है। इसके पके फल रोज़ाना खाने से पेट की गैस की समस्या दूर होती है।

जानवरों के कीड़े युक्त घावों में करौंदे की जड़ को पीसकर भर देने से कीड़े नष्ट होकर घाव शीघ्र भर जाते हैं।

क्रैनबेरी कई पौष्टिक तत्वों से भरपूर है। इसमें मौजूद सभी तत्व स्वास्थ्य से जुड़ी कई समस्याओं के लिए फायदेमंद होते हैं। इन्हें अपने आहार में शामिल करें और इसकी खूबियों का लाभ उठाएं।

अगर आपको ये पोस्ट अच्छी लगी तो जन-जागरण के लिए इसे अपने Facebook पर शेयर करें ।

ऐसी ही और बातों के लिए like करें हमारे पेज Such Khu को।

और ऐसे ही अन्य स्वास्थ्य सम्बन्धी जानकारी के लिए निचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें और गुरूप ज्वाइन करें।

जुडें हमारे फेसबुक ग्रुप से क्लिक करें आयुर्वेदिक देशी नुस्खे।


Warning: A non-numeric value encountered in /home/khabarna/public_html/suchkhu.com/wp-content/themes/Newspaper/includes/wp_booster/td_block.php on line 352